But…it is mine.

एक उदासी , और एक उलझन
और एक खालीपन ,
और इतना कुछ ,
आजकल ज़िन्दगी में बहुत ,
भरा है घर खचाखच।

सोचती हूँ कुछ हल्का करूँ ,
बोझिल आँखों का भार ,
पर हिम्मत नहीं ,हैं
दोस्ती बहुत कड़ी है।

मुझे भी क्या पड़ी है ?
रात है, स्याह है ,
पर यह मेरी है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s