I like my free expression , I like my freedom flight.

फैलते  पंख फैलाव के और उसके डैनों  पर उड़ती मैं
मुझे सिकुड़ने को अगर कहा भी जाएँ , तो शायद सवाल खड़ा कर दूँ
कई बार मैं सोचती हूँ मुझे मेरे पंखों पर
मेरी उड़ान पर बेहद भरोसा हैं
यदि आज मैं  कहूँ कि मैं इस उड़ान के लिए कुछ भी कर गुज़र सकती हूँ
शायद ज़्यादा कोई बड़ी बात नहीं
क्योंकि शायद यही ढंग जानती हूँ ज़िन्दगी का
I think may be this is the only way I like my life to be , have come a long way making it this way , garnering & asserting .
Well..
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s